नहीं रहे मशहूर सिंगर Pankaj Udhas, 72 की उम्र में ली अंतिम सांस 2024 Big News

VIJAY
7 Min Read

Pankaj Udhas : संगीत जगत के दिग्गज और पद्मश्री विजेता पंजज उधास ने आज अंतिम सांस ली। चिट्ठी आई है और चांदी जय रंग जैसी ग़ज़लों के लिए जाने जाने वाले अनुभवी ग़ज़ल गायक का लंबी बीमारी के कारण निधन हो गया। उनकी बेटी नायाब उधास ने इंस्टाग्राम पर खबर साझा की, उन्होंने लिखा, “बहुत भारी मन से, हम लंबी बीमारी के कारण 26 फरवरी 2024 को पद्मश्री पंकज उधास के दुखद निधन की सूचना देते हुए दुखी हैं।” पंकज उधास को हिंदी सिनेमा और भारतीय पॉप संगीत में उनके योगदान के लिए जाना जाता था। उन्होंने 1980 में अपने ग़ज़ल एल्बम “आहट” से प्रसिद्धि हासिल की और “मुकरार,” “तरन्नुम,” और “महफ़िल” जैसी हिट फ़िल्में दीं। फिल्म ‘नाम’ का उनका गाना ‘चिट्ठी आई है’ बेहद लोकप्रिय हुआ। उधास को 2006 में पद्म श्री सहित प्रशंसा मिली है। उनका 72 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

Pankaj Udhas , भारतीय संगीत जगत के एक प्रमुख और प्रतिष्ठित नाम हैं। उन्होंने अपनी सुरीली आवाज़ और गीतों के माध्यम से लाखों दिलों को छू लिया है। उनकी गायकी का जादू लोगों के दिलों में बस चुका है और उन्हें भारतीय संगीत की एक अद्वितीय शैली का प्रतिनिधित्व करने का सम्मान प्राप्त है।

पंकज उदास का जन्म 17 मई, 1951 को जम्मू और कश्मीर के जम्मू शहर में हुआ था। उनके परिवार में संगीत के प्रति रुझान था, जिससे उन्हें संगीत की प्रेमिका बनने का मार्ग मिला। पंकज ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा जम्मू में पूरी की और फिर उन्होंने संगीत के क्षेत्र में अध्ययन करने के लिए मुंबई जाना चुना।

Pankaj Udhas : का संगीतीय यात्रा उनके पिता, चन्द्रमोहन जी के संगीत के प्रभाव में विकसित हुआ। उन्होंने विभिन्न संगीत गुरुओं से शिक्षा प्राप्त की और अपनी आवाज़ को परिष्कृत किया। उन्होंने अपने प्रदर्शनों में भावनाओं को जीवंत करने का काम किया और उनकी गायकी के माध्यम से लोगों को गहरी प्रेरणा दी।

Pankaj Udhas

Pankaj Udhas : का पहला ब्रेकथ्रू गीत “चित्रलेका जैसे कोई नहीं” था, जो उन्होंने फिल्म “याराना” में गाया था। इस गीत ने उन्हें एक उत्कृष्ट गायक के रूप में मान्यता प्राप्त कराई और उन्हें संगीत उद्योग में उनकी स्थानीय शैली के लिए पहचान दिलाई।

Pankaj Udhas : उनका शैली शोक, प्रेम और जीवन के उतार-चढ़ाव को दर्शाता है। उनके गीतों में विचारशीलता और भावनाओं की गहराई होती है। उनकी आवाज़ में विराजमान भावनाओं ने उन्हें गायकी के क्षेत्र में अद्वितीय बना दिया है।

Pankaj Udhas : ने अपने संगीत की विविधता के लिए बहुत सारे पुरस्कार प्राप्त किए हैं। उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया है, जो उनके संगीत की महत्वपूर्णता को साबित करता है।

Pankaj Udhas : संगीत के माध्यम से समाज में बदलाव लाने का काम किया है और लोगों को अपने भावनाओं को व्यक्त करनेका साहस दिया है। उनके गीतों के लिरिक्स में व्यापारिकता की बजाय जीवन के सच्चाई को बयां किया गया है और इसके कारण उन्हें लोगों की प्रिय गायक की स्थिति प्राप्त है।

Pankaj Udhas Death Reason: गजल गायक पंकज उधास का 72 साल की उम्र में निधन |  NBT - YouTube

समाप्ति में, पंकज उदास एक अद्वितीय संगीतकार हैं, जो अपनी सुरीली आवाज़ और भावनाओं से लोगों को प्रेरित करते हैं। उनके संगीत का प्रभाव आज भी हमारे समाज में महसूस होता है और उनके गीत लोगों के दिलों में स्थायी रूप से बसे हुए हैं।

पंकज उदास: उनकी शीर्ष फिल्में और गाने :

पंकज उदास, भारतीय संगीत के उत्कृष्ट गायकों में से एक हैं जिन्होंने अपनी आवाज़ के जादू से लोगों के दिलों में जगह बना ली है। उनकी सुरीली आवाज़ और गीतों की मधुरता ने उन्हें बॉलीवुड में भारतीय संगीत की विशेष पहचान दिलाई है। चलिए, जानते हैं कुछ ऐसी टॉप फिल्में और गाने जिन्होंने पंकज उदास को और भी प्रसिद्ध बनाया है:

Pankaj Udhas फिल्में:

  1. “याराना” (1981): यह फिल्म पंकज उदास की गायकी की बॉलीवुड में दिग्गज एवं चर्चित फिल्मों में से एक है। उन्होंने इस फिल्म में “चित्रलेका जैसे कोई नहीं” गाया, जो उनका पहला बड़ा हिट गाना बन गया।
  2. “मैं प्यार का दीवाना” (1992): इस फिल्म में भी पंकज उदास ने अपनी महान गायकी का प्रदर्शन किया और गाना “चित्रलेका जैसे कोई नहीं” फिल्म के नाम से ही सम्बन्धित है।
  3. “बॉर्डर” (1997): यह फिल्म भारतीय सेना के वीर जवानों की कहानी पर आधारित है। पंकज उदास ने इस फिल्म में “सन साथिया” गाया, जो उनका एक और लोकप्रिय गाना है।
  4. “निगाहें” (1989): इस फिल्म में भी पंकज उदास ने कई गाने गाए, Pankaj Udhas जिनमें “चेहरा तेरा दिल निगाहें” और “एक बार तुम” सबसे लोकप्रिय हैं।

Pankaj Udhas गाने:

  1. “चित्रलेका जैसे कोई नहीं”: यह गाना फिल्म “याराना” से है और पंकज उदास की गायकी की पहचान बन गया। इस गाने के शब्द और संगीत ने लोगों को उनकी आवाज़ में मंत्रमुग्ध कर दिया।
  2. “सन साथिया”: इस गाने ने फिल्म “बॉर्डर” में अपनी प्रसिद्धि प्राप्त की। इसमें पंकज उदास ने अपनी भावनात्मक आवाज़ के साथ शानदार प्रदर्शन किया।
  3. “एक बार तुम”: यह गाना फिल्म “निगाहें” से है और इसमें पंकज उदास की गायकी और मिहर आली की शानदार मेलोडी है।
  4. “अफ़साना बना के भूल ना जाना”: इस गाने ने भी लोगों के दिलों में जगह बनाई। इसमें पंकज उदास की आवाज़ का जादू देखने को मिलता है।

पंकज उदास के गीतों और फिल्मों ने उन्हें भारतीय संगीत के इतिहास में एक महान स्थान दिलाया है। उनके संगीत से हमेशा ही लोगों को एक अलग ही अनुभव मिलता है और Pankaj Udhas के गीतों में जीवन की भरपूरता और भावनाओं का सार होता है।

Pankaj Udhas

Also Read :

Share this Article
Leave a comment